Please Enter OTP For Tractor Price कृपया ट्रैक्टर की कीमत के लिए ओटीपी दर्ज करें
Enquiry icon
Enquiry Form

भारत में ट्रैक्टर टायर

all tyreAll Tyre
tyre PriceTyre Price
Tractotr front tyre TractorFront Tyre
Rear Tractor TyreRear Tyre
Tractor Tyre BlogsTyre Blogs
Tyre VideosTyre Videos

साइज के अनुसार टायर चुनें

अगला ट्रैक्टर का टायर

सभी ट्रैक्टर के अगले टायर देखें

पिछला ट्रैक्टर का टायर

सभी ट्रैक्टर के पिछले टायर देखें
सभी ब्रांड देखें कम ब्रांड देखें

tractor Tyre Newsटायर समाचार

Exciting News: BKT Tires Joins Hands with 7 T20 Teams, Including Debut with Lucknow Super Giants!

Exciting News: BKT Tires Joins Hands with 7 T20 Teams, Including Debut with Lucknow Super Giants!

Mumbai, India, March 26, 2024: BKT Tires, an Indian multinational company and a global player in the...

JK Tyre's Water Conservation Initiative Earns Prestigious ICC Social Impact Award

JK Tyre's Water Conservation Initiative Earns Prestigious ICC Social Impact Award

New Delhi, 14 th March, 2024: Indian tyre industry major JK Tyre & Industries received recogniti...

भारत में टॉप 5 ट्रैक्टर टायर ब्रांड 2024

भारत में टॉप 5 ट्रैक्टर टायर ब्रांड 2024

किसान, जिसे हम अन्न दाता के नाम से भी जानते हैं उनके लिए ट्रैक्टर एक ऐसा टूल है जो उनकी खेती करने की...

टायर के बारे में हाल ही में पूछे गये प्रश्न

MRF के ट्रैक्टर टायर की कीमत क्या है?

एमआरएफ ट्रैक्टर टायर की कीमत सीमा रु 3900 - 55000 है।

ट्रैक्टर का टायर कितने किलो का होता है?

आमतौर पर टायर का वजन 40 से 45 किलो होता है।

सबसे बढ़िया टायर कौन सी कंपनी का होता है?

सबसे बढ़िया टायर MRF कंपनी का होता है

CEAT टायर कंपनी कहाँ की है?

Cavi Elettrici e Affini Torino, जिसे आमतौर पर संक्षिप्त नाम CEAT (सीएट) द्वारा जाना जाता है, आरपीजी समूह की प्रमुख कंपनी है। इसकी स्थापना 1924 में ट्यूरिन, इटली में हुई थी। वर्तामान मे, सीएट भारत के प्रमुख टायर निर्माताओं में से एक है |

एमआरएफ टायर कंपनी का मालिक कौन है?

MRF के मालिक केएम मैमन मापिल्लई (K. M. Mammen Mappillai) हैं।

प्रभावी कार्य के लिए सबसे अच्छे एग्रीकल्चर ट्रैक्टर टायर कौनसे हैं?

एमआरएफ शक्ति लाइफ 6.00X16(एस), अपोलो फार्मिंग 340/85X28(एस) और गुड ईयर वज्र सुपर 12.4X28(एस) भारत में सबसे अच्छे ट्रैक्टर टायर हैं।

मुझे भारत में बिक्री के लिए उपलब्ध नए ट्रैक्टर टायर कहां मिल सकते हैं?

ट्रैक्टर ज्ञान आपको भारत में नए ट्रैक्टर टायर के बारे में पूरी जानकारी प्रदान कर सकता है।

टायर में किस प्रकार की सामग्री का उपयोग किया जाता है?

टायर बनाने के लिए आमतौर पर रबर और नायलॉन का इस्तेमाल किया जाता है।

मैं टायर पर निर्माण की तारीख कैसे ढूंढ सकता हूं?

किसी भी टायर की उम्र को "DOT" प्रतीक के बाद के पात्रों की जांच करके टायर के किनारे पर पाया जा सकता है।

क्या टायरों पर वारंटी उपलब्ध है?

हाँ, टायरों पर वारंटी उपलब्ध है, वारंटी की स्थिति ब्रांड के अनुसार बदल सकती है।

Select Language

tractorgyan offeringsट्रैक्टरज्ञान द्वारा

ट्रैक्टर टायर के बारे में

कृषि कार्य के लिए ट्रैक्टर सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं लेकिन किसी भी क्षेत्र में कृषि कार्य करने के लिए ट्रैक्टर के मजबूत टायर सबसे ज्यादा आवश्यक होते हैं। भारत में वर्ष भर में दस लाख से भी ज्यादा ट्रेक्टर टायर बेचे जाते हैं। सभी ट्रैक्टर का उपयोग समान नहीं होता हैं। ट्रैक्टर तेज गति से चलते है लेकिन ट्रैक्टर्स के टायर की बेहतर गुणवत्ता की वजह से ही कोई ट्रैक्टर अच्छी तरह से कार्य करता हैं। 

इंजन के लिए ईंधन जितना जरुरी होता है उसी तरह एक ट्रैक्टर के लिए टायर जरुरी होता हैं इसलिए ट्रैक्टर के लिए सही टायर का चुनाव करना जरुरी है। टायर की दो श्रेणियाँ होती हैं फ्रंट और रियर टायर। बाजार में विभिन्न प्रकार के ट्रैक्टर के ब्रांड उपलब्ध हैं उच्चतम गुणवत्ता का ट्रैक्टर का निर्माण करने से पहले निर्माता इसके विनिर्देशों के बारे विचार करते है इन विनिर्देशों को ट्रैक्टर में ठीक से बनाए रखा जाना चाहिए टायरों के आकार आगे और पीछे के औजारों के साथ अलग-अलग होते हैं। 

 

ट्रैक्टर टायर की कीमत

ट्रैक्टर टायर की कीमत, टायर के आकार और प्रकार दोनों बात पर निर्भर करती है। ट्रेक्टरज्ञान पर ट्रैक्टर टायर प्राइस बताई गई है जो भारत के सभी किसानों के लिए उपयुक्त है। ट्रैक्टर फ्रंट टायर की कीमत 3,000 रुपये से 12,000 रुपये तक होती है। ट्रैक्टर रियर टायर की कीमत 13,000 रुपये से लेकर 35,000 रुपये तक होती हैं। ट्रेक्टरज्ञान पर आप किसी भी ब्रांड के ट्रैक्टर टायर का विस्तृत विवरण प्राप्त कर सकते हैं और आसानी से खोज भी सकते हैं। साथ ही ट्रैक्टर के टायरों की तुलना भी कर सकते हैं। हमारी वेबसाइट पर विभिन्न प्रकार के ट्रैक्टर टायरों की एक श्रृंखला है।

 

शीर्ष ट्रैक्टर टायर ब्रांड

लोकप्रिय ट्रैक्टर टायर ब्रांड के बारे में आपको आगे बताया जा रहा हैं जो किसानों के लिए उपयुक्त हैं। यहाँ पर ट्रैक्टर टायर उनके मॉडल और ट्रैक्टर टायर के ब्रांड उपलब्ध हैं। इन ब्रांड में किसानों की सुविधा के लिए उन्नत टायर बनाये जाते हैं। अगर टायर में सभी आवश्यक सुविधाएं हों तो वह सड़क पर प्रभावी ढंग से काम करता है। ट्रेक्टरज्ञान पर आप जॉन डियर ट्रैक्टर टायर, महिंद्रा ट्रैक्टर टायर, एस्कॉर्ट ट्रैक्टर टायर, सोनालिका ट्रैक्टर टायर, सोनालिका ट्रैक्टर टायर, न्यू हॉलैंड ट्रैक्टर टायर, फार्मट्रैक ट्रैक्टर टायर, मैसी फर्ग्यूसन ट्रैक्टर टायर, आयशर ट्रैक्टर टायर, पॉवरट्रैक ट्रैक्टर टायर पा सकते हैं। ट्रेक्टरज्ञान पर आप पूरे विवरण के साथ शीर्ष ट्रैक्टर टायर ब्रांडों की सूची पा सकते है। वैसे तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई ट्रैक्टर टायर ब्रांड हैं लेकिन सबसे अच्छे ब्रांड हैं :

  • एमआरएफ ट्रैक्टर टायर

  • जेके ट्रैक्टर टायर्स

  • सीएट ट्रैक्टर टायर

  • गुड ईयर ट्रैक्टर टायर्स

  • बिड़ला ट्रैक्टर टायर

  • अपोलो ट्रैक्टर टायर

  • बीकेटी ट्रैक्टर टायर

 

ट्रैक्टर के टायर का आकार

ट्रैक्टर टायर कई तरह के आकार और ट्रेड पैटर्न में आते हैं। ट्रैक्टर के टायर 16 इंच से 28 इंच के रिम साइज रेंज में आते हैं। ट्रैक्टर के मेक और मॉडल के आधार पर ट्रैक्टर के टायर बहुत से आकारों में उपलब्ध हैं। टू-व्हील ड्राइव ट्रैक्टर में आगे के टायर को स्टीयर टायर और पिछले टायर को ड्राइव टायर या पहिए कहा जाता है। ट्रैक्टर को विभिन्न दिशाओं में चलाने के लिए सामने के टायरों का इस्तेमाल करते है और इंजन से जमीन तक बिजली पहुंचाने के लिए पीछे के टायरों का इस्तेमाल किया जाता है। तो यही कारण है की टू-व्हील-ड्राइव ट्रैक्टर के आगे दो छोटे और पीछे दो बड़े पहिये होते है। अगर 4-व्हील ड्राइव ट्रैक्टर की बात करे तो इसके सभी 4 पहिए संचालित होते हैं।

भारत में ट्रैक्टर फ्रंट टायर विकल्प

अलग-अलग ब्रांड में अलग-अलग तरह के टायर होते हैं। कुछ ट्रैक्टरों में फ्रंट टायरों का आकार छोटा और कुछ ट्रैक्टर में फ्रंट टायर का आकार बड़ा होता है। ट्रैक्टर के फ्रंट टायर से आसान स्टीयरिंग प्राप्त होती हैं। ट्रैक्टर की सबसे महत्वपूर्ण फ्रंट साइज 6.00-16, 7.50-16 और 6.50-16 है। 

भारत में ट्रैक्टर के पिछले टायर का आकार

ट्रैक्टरों के पीछे की तरफ लगाए गए टायर रियर टायर्स होते हैं। ट्रैक्टर की जरूरत के अनुसार रियर साइज के टायर अलग-अलग साइज में आते हैं। कुछ ट्रैक्टरों में रियर टायर्स हमेशा बड़े आकार के होते है लेकिन कुछ ट्रैक्टर मॉडल जैसे महिंद्रा में पीछे के टायर का आकार छोटा होता हैं। ट्रैक्टर के पीछे के टायर ही हैं जो अच्छी पकड़ और भार वहन क्षमता प्रदान करते हैं इसलिए यह बहुत अधिक महत्वपूर्ण होते हैं। ट्रैक्टर के रियर टायर का आकार 12.4-28,13.6-28,14.9-28 और 16.9-28 होता है।

 

टायरों की तुलना

ट्रेक्टरज्ञान पर आपको टायरों की एक टायर से दूसरे टायर से तुलना करने का विकल्प मिलेगा। यहाँ पर आपको टायर मोड के बीच तुलना, ट्रैक्टर टायर कीमतों के बीच तुलना, टायर ब्रांडों के बीच तुलना और टायर्स की अन्य तुलना करके सही टायर चुनने में मदद मिलेगी। 

 

ट्रेक्टरज्ञान पर जानकारी कैसे प्राप्त करें 

ट्रेक्टरज्ञान की वेबसाइट पर आपको ट्रेक्टर टायर के पेज पर जाना हैं। इस लिंक पर क्लिक करते ही आपको ट्रेक्टर के टायर से जुडी सभी जानकारी मिल जाएगी। साथ ही यदि आप किसी दो टायर्स को लेकर उलझन में है तो हमारी वेबसाइट पर टायरों की तुलना करने की भी विस्तृत जानकारी दी गई हैं जिससे आपको टायर खरीदने में आसानी होगी। यहाँ आपको ट्रैक्टर टायर की कीमत, उनके ब्रांड नाम, नए टायर विकल्प, सबसे लोकप्रिय ट्रैक्टर टायर आदि के बारे में पूरा विवरण बताया गया हैं।

 

ट्रैक्टर टायर निर्माण

यदि हम टायर और पहिये के आकार की बात करे तो सबसे पहले ट्रैक्टर टायर के ट्रेड पैटर्न को समझना जरुरी है। यदि कोई टायर बिना किसी ट्रेड या पैटर्न के है तो उन टायर को स्लीक कहते है। ट्रेड टायरों पर पैटर्न होते हैं जिन्हें आराम में सुधार करने, फिसलन से बचने, अधिकतम दक्षता प्रदान करने के लिए, सड़क के शोर को कम करने, अधिकतम पकड़ प्रदान करने के लिए डिज़ाइन और इंजीनियर किया जाता है। ट्रैक्टर टायर नरम और कठोर यौगिक रबड़ से बनाये जाते है। सॉफ्ट कंपाउंड के टायर महंगे होते हैं और यह कम समय तक ही काम देते हैं लेकिन सॉफ्ट कंपाउंड के टायर सड़कों पर असाधारण पकड़ देते हैं। हार्ड कंपाउंड टायर टिकाऊ होने के साथ ही किफायती होते हैं। ट्रैक्टर के टायर प्राकृतिक रबर, सिंथेटिक रबर जिसमें आते हैं ब्यूटाडाइन रबर और स्टाइरीन-ब्यूटाडाइन रबर इनसे बनाए जाते हैं।

 

ट्रैक्टर के टायरों का साइज कैसे जाने 

जो भी ट्रैक्टर उपयोगकर्ता है उनका यह सबसे जरुरी प्रश्न है। टायर के साइडवॉल में ट्रैक्टर टायर के आकार के बारे में बताया गया होता है। एक साइडवॉल वह होता है जो टायर का बाहरी सामना करता हैं जो रिम्स के स्तर पर होता है। इस पैटर्न में ट्रैक्टर टायर के आकार 13.6-28 के बारे में बताया गया है। यह सभी माप इंच में होते हैं। ट्रैक्टर के टायर की चौड़ाई 13.6 इंच और रिम्स का व्यास 28 इंच का होता है। इस चौड़ाई और रिम्स के व्यास को रिम साइज के नाम से जाना जाता है। ट्रैक्टर टायर खरीदने के दौरान एक और महत्वपूर्ण चीज है टायर निर्माण तिथि की जांच करना। ट्रैक्टर टायर के निर्माण की तारीख टायर के साइडवॉल पर लिखी होती हैं जिसे डेट कोड के रूप में जाना जाता है। इस पैटर्न में टायर पर इसका उल्लेख 12/19 है। इसमें पहले के 2 अंक निर्माण के सप्ताह को दर्शाते हैं और अंतिम के दो अंक निर्माण के वर्ष को दर्शाते हैं। उदाहरण के लिए, उपरोक्त ट्रैक्टर का निर्माण 12 वें सप्ताह यानी मार्च 2019 में किया गया था। इस बात की सिफारिश की जाती है कि उन टायर्स का उपयोग करने से बचना चाहिए जो निर्माण की तारीख से 5 वर्षों तक उपयोग नहीं किया गया हो।

 

ऑनलाइन ट्रैक्टर टायर कैसे खरीदें

यदि आप भारत में कृषि टायरों की तलाश में हैं तो कृषि टायर ब्रांडों को प्राप्त करने के लिए ट्रेक्टरज्ञान पर जाएँ। यहाँ आपको ट्रैक्टर टायर प्राइस आकार, और ब्रांड के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी। साथ ही मिनी ट्रैक्टर टायर खरीदने के लिए ट्रेक्टरज्ञान बिल्कुल सही जगह हैं। यदि आप टायर की कीमतों और कौन सा कृषि टायर आपके ट्रैक्टर के लिए आपको लेना चाहिए इस बारे में जानना चाहते है तो हमारी वेबसाइट पर सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी। ट्रैक्टर के टायर के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए ट्रेक्टरज्ञान पर बने रहे।

 

ट्रेक्टरज्ञान पर खेती के लिए ट्रैक्टर टायर

ट्रेक्टरज्ञान प्लेटफॉर्म पर टायर के बीच तुलना, ट्रैक्टर टायर की कीमत, विभिन्न प्रकार के टायर ब्रांड के बारे में जानकारी मिलती हैं। साथ ही आप ट्रेक्टरज्ञान पर विभिन्न ट्रेक्टर प्रकारों,  ट्रैक्टर मॉडल, ट्रैक्टर ब्रांड के बारे में जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

किसान भारत जैसे देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण संपत्ति हैं, जहां 73% आबादी अभी भी गांवों में रह रही है, और कृषि राष्ट्रीय जीडीपी में 17% योगदान देती है। भारतीय किसानों और भारतीय कृषि स्थितियों की मांग को ध्यान में रखते हुए उचित ट्रैक्टर टायर का चयन करना बहुत महत्वपूर्ण है। 1 9 30 के दशक में रबर ट्रैक्टर टायर उम्र के आए थे। उसके बाद अधिकांश ट्रैक्टरों में धातु के लग्स के साथ स्टील पहियों थे। उन्होंने मैदान में काम करते समय उत्कृष्ट कर्षण प्रदान किया, लेकिन जब कठिन जमीन पर सवारी मोटा हो गई और अक्सर पक्की सड़कों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। रबर टायर्स पहले से ही सभी कारों पर उपयोग किए गए थे, और हरमन गॉर्टजेन ने तर्क दिया कि वे अधिक शक्तिशाली साबित होंगे, पेट्रोल की खपत में सुधार करेंगे, कम धूल को लात मारेंगे और इस्पात संस्करणों की तुलना में कहीं अधिक आरामदायक सवारी प्रदान करेंगे।

अपने टायर की खोज करने के लिए आपको आवश्यक टायर आकार को जानने की आवश्यकता है। टायर आकार कई अलग-अलग प्रारूपों में लिखा जा सकता है। आकार लगभग हमेशा टायर साइडवॉल पर लिखा जाता है और ट्रैक्टर टायर के लिए '16 .9-28 'या' 420/85r28 'जैसे कुछ दिखाई देगा। पहला प्रकार (16.9-28) इंच में लिखित इंपीरियल है, और दूसरा नया मेट्रिक अंकन अब कई निर्माताओं द्वारा अपनाया जा रहा है। दोनों आकारों के साथ अंतिम संख्या रिम (टायर के बीच में छेद का व्यास) इंच में है। पहला नंबर टायर की चौड़ाई है, और हमारे उदाहरण में यह 16.9 इंच या 420 मिमी होगा। 'आर' यदि उपहार का मतलब है कि आपके पास रेडियल निर्माण का टायर है, और '-' यदि वर्तमान का मतलब है कि टायर क्रॉसली निर्माण का है। मीट्रिक आकार (420/85 आर 28) आपको चौड़ाई के बाद प्रोफाइल प्रतिशत बताते हैं, यहां यह 85% प्रोफाइल है (इसका मतलब है कि टायर पर साइड दीवारें 85% टायर की चौड़ाई के रूप में लंबी हैं)। इस प्रोफ़ाइल को अनदेखा किया जा सकता है यदि आपके टायर का आकार इंपीरियल में लिखा गया है क्योंकि यह नहीं दिया गया है।

रेडियल टायरों का 1 9 46 में आविष्कार किया गया था और टायर के साइडवॉल और टायर को दो स्वतंत्र सुविधाओं के रूप में काम करने की अनुमति मिलती है। एक रेडियल टायर की लचीलापन, इसकी ताकत के साथ, दो संयुक्त कारक हैं जिनका अर्थ है एक रेडियल ट्रैक्टर टायर एक क्रॉसली टायर की तुलना में प्रभाव सदमे को प्रभावित करता है और अधिक प्रभावी ढंग से टक्कर देता है। यह आपको और आपकी मशीन को अधिक आरामदायक सवारी देता है और ड्राइवर को लंबे समय तक काम करने की अनुमति देता है। साइडवेल की लचीलापन वाहन स्थिरता को बढ़ाती है और सड़क की सतह के साथ टायर के अधिकतम संपर्क प्रदान करती है। जमीन के साथ यह बेहतर संपर्क टायर ट्रेड पर पहनने को कम करता है जिसका अर्थ है रेडियल टायर क्रॉसप्ले टायर से अधिक समय तक चलते हैं। यह मिट्टी के टुकड़े को कम करने वाले जमीन पर वजन फैलाने में भी मदद करता है। रेडियल टायरों में उच्च गति रेटिंग होती है, इसलिए कुछ तेज सड़क चलने वाली मशीनों के लिए रेडियल टायर एकमात्र उपयोग योग्य विकल्प होते हैं। रैडियल टायर क्रॉसप्ले विकल्पों की तुलना में अधिक महंगा होते हैं, इसलिए एक निवेश के रूप में देखा जा सकता है जो लंबे समय तक भुगतान करेगा दौड़ना।

क्रॉसप्ले टायर बहुत लंबे समय तक रहे हैं और जबकि रेडियल टायर के फायदेमंद की पेशकश नहीं करते हैं, वे सस्ता हैं, और कुछ अनुप्रयोगों में पसंदीदा विकल्प हैं। क्रॉसप्ले टायरों में रेडियल टायर की तुलना में कठोर टायर के किनारे होते हैं, और इसलिए फुटपाथ पेंचर्स से बचने के लिए बेहतर होता है, उदाहरण के लिए वानिकी उपयोग में फायदे हैं। वे रेडियल टायर की तुलना में कम निलंबन भी देते हैं जो उदाहरण के लिए फोर्कलिफ्ट ट्रक और कैंची लिफ्टों पर एक फायदा हो सकता है जिसके लिए एक दृढ़ सवारी की आवश्यकता होती है। इस आलेख को पढ़कर रेडियल बनाम क्रॉसप्ली के बारे में और जानें।

एक प्लाई रेटिंग एक टायर लोड इंडेक्स के समान होती है और यह एक टायर की ताकत का संकेत / माप है, जो आपको अधिकतम वजन बता रहा है कि कृषि और औद्योगिक टायर सुरक्षित रूप से ले जा सकते हैं। एक उच्च प्लाई रेटिंग वाले टायर अधिक वजन लेते हैं लेकिन उनके बेहतर निर्माण और उपयोग की जाने वाली अतिरिक्त सामग्री के कारण अधिक लागत अधिक होती है। प्लाई रेटिंग आमतौर पर केवल क्रॉसप्ली निर्माण के टायर पर दी जाती है, नए रेडियल टायरों में इसके बजाय लोड इंडेक्स नंबर होना चाहिए। आम तौर पर, आपको वर्तमान में आपके पास कम प्लाई रेटिंग पर स्विच नहीं करना चाहिए। आप आमतौर पर इस्तेमाल किए गए टायर की प्लाई रेटिंग को बढ़ा सकते हैं, लेकिन उच्च टायर को ध्यान में रखते हुए एक टायर को रेटिंग करने के लिए एक टायर की रेटिंग आमतौर पर बन जाती है। यह टायर साइडवॉल में पेंचर से बचने में मदद करने में फायदेमंद हो सकता है, लेकिन निलंबन / कुशनिंग को कम कर सकता है जिसे आप अपनी मशीन की सवारी करते हैं।

लोड इंडेक्स अधिकतम वजन है जो ट्रैक्टर और कृषि टायर सुरक्षित रूप से समर्थन कर सकते हैं। यह एक संख्या द्वारा दर्शाया गया है: जितना अधिक यह संख्या टायर ले जा सकती है उतनी अधिक वजन है। वाहन की सुरक्षा के लिए यह अनिवार्य है और इसके निवासियों को उच्च पर्याप्त गति और लोड इंडेक्स के साथ टायर चुना जाता है। गति और लोड इंडेक्स और अन्य सभी टायर मार्किंग के बारे में और जानने के लिए, हमारे टायर आकार गाइड पर एक नज़र डालें।

ट्यूब (टीटी) और ट्यूबललेस (टीएल) ट्रैक्टर टायर क्या हैं? ट्यूबेड प्रकार (टीटी) ट्रैक्टर और कृषि टायर के पास टायर के अंदर एक अलग ट्यूब लगाई जाती है जिसे अक्सर टायर के लिए अलग से खरीदा जाता है। ट्यूबललेस टायर्स (टीएल) का अपना आंतरिक लाइनर होता है जो रिम से लीक को रोकता है और पंचर द्वारा किए गए नुकसान को कम करता है। इसलिए उन्हें खरीदे जाने के लिए एक अलग ट्यूब की आवश्यकता नहीं होती है (यदि आप रिम्स अच्छी स्थिति में हैं)। ट्यूबललेस ट्रैक्टर टायर्स अति ताप करने के लिए अधिक प्रतिरोधी हैं, लेकिन यदि टायर ठीक से फिट नहीं किया गया है या यदि रिम्स पुराने या क्षतिग्रस्त हैं तो वायु रिसाव हो सकता है। ट्यूब-प्रकार और ट्यूबललेस टायर्स पर इस लेख को पढ़कर और जानें। भारत में शीर्ष ट्रैक्टर टायर ब्रांड:
नीचे शीर्ष ट्रैक्टर टायर ब्रांड हैं जो किसानों के लिए बिल्कुल सही हैं। ये ब्रांड किसानों के आराम के लिए उन्नत टायर प्रदान करते हैं। इसलिए, वे खरीद के लिए उपयुक्त हैं।

अपोलो टायर
बीकेटी टायर
अच्छा साल टायर
सीट टायर
एमआरएफ टायर
बिड़ला टायर
जेके टायर

अपने कृषि और औद्योगिक टायरों को गिट्टी करना आंशिक रूप से टायर या आंतरिक ट्यूब को पानी से भरना शामिल है। यह गुरुत्वाकर्षण के केंद्र को कम करने और असमान जमीन से निपटने में मदद करने के लिए मशीन को स्थिर करने के लिए किया जाता है। और अधिक जानकारी प्राप्त करें। ओवर-फुलाए गए कृषि और कृषि टायर मिट्टी की संघनन, ईंधन की खपत और मशीन और टायर में पहनने में वृद्धि कर सकते हैं। मिट्टी और फसलों को भी खराब हो सकता है, जिसमें कॉम्पैक्शन परत को तोड़ने के लिए भारी निवेश की आवश्यकता होती है। इसके विपरीत, मुद्रास्फीति का अर्थ है कि गतिशीलता का सामना करना पड़ेगा और अपरिवर्तनीय क्षति आपके कृषि और औद्योगिक टायर के आवरणों को किया जाएगा। और अधिक जानकारी प्राप्त करें।