Enter your city for weather info

Invalid City Name

rain icon
Temperature 22°C
Status Clear
City New York
4-Day Forecast
Humidity icon

50%

Humidity

wind icon

15 km/h

Wind Speed

Please Enter OTP For Tractor Price कृपया ट्रैक्टर की कीमत के लिए ओटीपी दर्ज करें
Enquiry icon
Enquiry Form

लेजर तकनीक से समतल होगा खेत, खाद-पानी की होगी बचत और पैदावार भी बंपर

लेजर तकनीक से समतल होगा खेत, खाद-पानी की होगी बचत और पैदावार भी बंपर

    लेजर तकनीक से समतल होगा खेत, खाद-पानी की होगी बचत और पैदावार भी बंपर

29 Jun, 2020

अब जल्द ही लेजर तकनीक के सहारे खेतों को समतल कर खेती की जा सकेगी। बिहार कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) ने उबड़-खाबड़ खेतों को समतल करने का वैज्ञानिक व आसान तरीका निकाला है। बीएयू ने किसानों के खेतों में इसका प्रयोग भी शुरू कर दिया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस तरीके से जुताई से 40 प्रतिशत पानी और खाद की बचत होती है। साथ ही पैदावार में भी 20 से 25 प्रतिशत का इजाफा होता है। 

कृषि विज्ञान केंद्र सबौर मौसम के अनुकूल खेती के लिए चयनित गांवों में लेजर तकनीक से खेतों को समतल करने के लिए किसानों के बीच जागरूकता अभियान भी चला रहा है। इस तकनीक से सुल्तानगंज, गोराडीह व कहलगांव प्रखंड की 200 एकड़ जमीन को समतल बनाया जा रहा है। बीएयू के निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ. आरके सोहाने ने कहा कि लेजर तकनीक से जमीन को समतल करने से पानी और खाद दोनों की बचत होती है। परंपरागत तरीके से समतल करने में कमियां रह जाती हैं।

 इससे पानी और खाद पौधे तक सही मात्रा में नहीं पहुंच पाता है। जमीन जब समतल होगा, तभी पैदावार भी अच्छी होगी। किसानों को इस तकनीक का इस्तेमाल करना चाहिए। कृषि विज्ञान केंद्र सबौर के वरीय कृषि वैज्ञानिक डॉ. विनोद कुमार ने बताया कि भागलपुर में प्रयोग के तौर पर इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। आगे इस योजना को हर किसान तक पहुंचायी जाएगी। पौधे में सही मात्रा में पानी और खाद का जाना जरूरी होता है। वहीं जमीन की उर्वरा शक्ति भी इससे बढ़ता है। हर किसान को तीन साल में एक बार लेजर तकनीक से जमीन को समतल कराना चाहिए।

एक समान पौधों का विकास
गोराडीह प्रखंड के बरहरी गांव के किसान रंजन कुमार सुमन ने कहा कि जमीन समतल होने से एक समान पौधों में पानी जाने से समान तरीके से फसल बढ़ती है। पटवन भी कम लगता है। किसान राकेश कुमार अभी इस तकनीक के सहारे मूंग की खेती कर रहे हैं। आगे धान की फसल लगानी है। समतल कर शून्य तकनीक से सीधे बुआई की जाती है। कहलगांव प्रखंड के बभनगामा के किसान कृष्ण मोहन ने कहा कि पटवन के समय पूरे खेत में पानी रहता है। बीज एक रंग जाने से पैदावार भी बढ़ने की संभावना अधिक रहता है। 

तीन गुना पानी की होती है बचत 
वरीय कृषि वैज्ञानिक डॉ. विनोद कुमार ने कहा कि उबड़-खाबड़ एक एकड़ जमीन में 18 क्विंटल धान के उत्पादन में 72 लाख लीटर पानी की खपत होती है। वहीं लेजर तकनीक से जमीन को समतल करने के बाद शून्य जुताई तकनीक से खेती करने पर 22 लाख लीटर ही पानी लगता है। इससे तीन गुना पानी की बचत होती है। भूमिगत जल की बचत होगी। पटवन पर अधिक खर्च नहीं आएगा। 

एक एकड़ दो घंटे में समतल 
बीएयू द्वारा यह मशीन कई गांवों में देकर जमीन समतल कराया जा रहा है। वहीं कुछ किसान सरकारी अनुदान पर मशीन खरीदकर इलाके में भाड़ा पर चला रहा है। किसान रंजन ने बताया कि पांच से 10 प्रतिशत उबड़-खाबड़ होने पर 1600 प्रति एकड़ और उससे अधिक होने पर तीन हजार रुपये प्रति एक का खर्च आता है। एक एकड़ को समतल करने में दो घंटे का वक्त लगता है। सामान्य जुताई से इसमें 20 फीसदी खर्च की बचत है।

क्या है लेजर तकनीक
लेजर 800 से लेकर 1500 मीटर के रेंज का होता है। इसे खेत के चारों कोने पर लगाकर जमीन के समतलीकरण की जांच होती है। वहीं ट्रैक्टर के पीछे हाइड्रोलिक सिलेंडर से जुड़ा ब्लेड लगा होता है। इसके ऊपर एक रिसीवर ट्रांसमीटर लगा होता है। इसका कंट्रोल ड्राइवर के बगल में होता है। सिगनल के अनुसार हाइड्रोलिक सिलेंडर से जुड़ा ब्लेड ऊपर नीचे मिट्टी को समतल करता है। ग्रीन सिगनल जलते ही काम बंद हो जाता है। 
 

Read More

 Escorts, IndusInd Bank team up to provide affordable loans to farmers       

Escorts, IndusInd Bank team up to provide affordable loans to farmers

Read More  

 जानें भारत में कृषि के लिए इस्तेमाल किए जानें वाले टॉप इंप्लीमेंट कौनसे हैं?       

जानें भारत में कृषि के लिए इस्तेमाल किए जानें वाले टॉप इंप्लीमेंट कौनसे हैं?          

Read More  

 जानें भारत की टॉप 7 कृषि आधारित इंडस्ट्रीज कौनसी हैं!       

जानें भारत की टॉप 7 कृषि आधारित इंडस्ट्रीज कौनसी हैं!                                    

Read More

Top searching blogs about Tractors and Agriculture

Top 10 Tractor brands in india To 10 Agro Based Indutries in India
Rabi Crops and Zaid Crops seasons in India Commercial Farming
DBT agriculture Traditional and Modern Farming
Top 9 mileage tractor in India Top 5 tractor tyres brands
Top 11 agriculture states in India top 13 powerful tractors in india
Tractor Subsidy in India Top 10 tractors under 5 Lakhs
Top 12 agriculture tools in India 40 Hp-50 Hp Tractors in India

review Write Comment About Blog.

Enter your review about the blog through the form below.



Customer Reviews

Bhut acha kam hai

user reviewBy Prashant yadav  04-08-2020

Popular Posts

https://images.tractorgyan.com/uploads/113823/6692222f0f3c2-vst-zetor-introduced-tractors-in gujarat.jpg

VST Zetor Introduced Tractors in Gujarat

12 July 2024: VST Zetor range of tractors, jointly developed by VST Tillers Tractors Ltd and HT...

https://images.tractorgyan.com/uploads/113822/66920cf68353f-mahindra-vs-sonalika-the-new-battleground-in-global-tractor-markets.jpg

Mahindra vs Sonalika: The New Battleground in Global Tractor Markets

Mahindra Tractors is the world’s largest tractor manufacturer and the top tractor-selling bran...

https://images.tractorgyan.com/uploads/113807/668fbfe494c32-harvester-retail-sales-report-in-june-2024.jpg

जून 2024 में हार्वेस्टर रिटेल बिक्री: जानिए ब्रांड प्रदर्शन और मासिक वृद्धि के बारे में

ट्रैक्टर के अलावा, हार्वेस्टर भारत में बड़ी मात्रा में बिकने वाला कृषि उपकरण है। आज हम आपके लिए...

Select Language

tractorgyan offeringsTractorGyan Offerings